इतिहास की कुछ चर्चित महिलाएं,जो बनी भारत में महिला सशक्तिकरण की मिसाल

0
77

बेगम जहाँआरा शाहनवाज़

          बेगम जहाँआरा शाहनवाज़, भारतीय महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलाने में उनके योगदान के लिए उल्लेखनीय हैं। बेगम जहाँआरा शाहनवाज़ अखिल भारतीय मुस्लिम लीग की पहली महिला सदस्य थीं। उनका जन्म 7 अप्रैल 1986 को लाहौर में मियां सर मुहम्मद शफी के घर हुआ था, जो अखिल भारतीय मुस्लिम लीग के संस्थापकों में से एक थे। उन्होंने 1920 के दशक में पंजाब के एक प्रमुख राजनेता मियां शाह नवाज से शादी की। उन्होंने क्वीन मैरी कॉलेज, लाहौर, ब्रिटिश भारत में पढ़ाई की।

     जहाँआरा पहले गोलमेज सम्मेलन में दो महिला प्रतिनिधियों में से एक थी, साथ ही दूसरे गोलमेज सम्मेलन में तीन महिला प्रतिनिधियों में से एक थी और तीसरे गोलमेज सम्मेलन में वह एकमात्र महिला प्रतिनिधि थीं।1927 में जब साइमन कमीशन भारत आया, तो जहांआरा ने अखिल भारतीय महिला आयोग (AIWC) की सदस्य के रूप में, महिलाओं के मतदान के अधिकार और आरक्षण के लिए आयोग के सामने वकालत की। हालाँकि, उनके साहस ने साइमन को यह लिखने के लिए मजबूर कर दिया कि ‘भारत का भविष्य महिलाओं के हाथों में है’ लेकिन फिर भी भारत सरकार ने महिलाओं के लिए कोई विशेष प्रावधान नहीं किया। जब भारतीय साइमन कमीशन की रिपोर्ट का विरोध कर रहे थे, गोलमेज सम्मेलन आयोजित किए गए थे। गोलमेज सम्मेलनों के लिए जहांआरा उन चंद महिलाओं में शामिल थीं, जिन्हें 16 करोड़ भारतीय महिलाओं की आवाज के रूप में चुना गया था।

     पहले गोलमेज सम्मेलन में जहाँआरा ने अपनी मातृभूमि की स्वतंत्रता के बारे में बात की और साथ ही उन्होंने तर्क दिया कि महिलाओं के लिए विशेष प्रावधान होने चाहिए और समान मतदान के अधिकार के लिए कहा। उन्होंने गोलमेज सम्मेलन के दौरान यह भी स्वीकार किया कि यह पहली बार था जब महिलाओं को इस तरह की सभा में शामिल किया गया था। इंग्लैंड में रहने के दौरान, उन्होंने भारतीय महिलाओं के मताधिकार के लिए समर्थन जुटाने की बहुत कोशिश की।

     1935 में, भारत सरकार अधिनियम प्रकाशित हुआ और इसने लगभग 6,00,000 भारतीय महिलाओं को मतदान का अधिकार दिया और विधान सभाओं में आरक्षण प्रदान किया। नतीजतन, आरक्षण के परिणामस्वरूप, 1937 के चुनाव में लगभग 80 महिलाएं प्रांतीय विधानसभाओं के लिए चुनी गईं।

     1927 में मतदान के अधिकार के अलावा, उन्होंने शादी के लिए न्यूनतम कानूनी उम्र बढ़ाने के लिए केंद्रीय विधान सभा में हरबिलास सारदा द्वारा पेश किए गए बिल का समर्थन किया। AICW की अन्य महिला कार्यकर्ताओं के साथ, उन्होंने बिल का समर्थन करने के लिए देश में एक लोकप्रिय जनमत बनाने के लिए कड़ी मेहनत की। दुर्भाग्य से, उनके पति मियां शाहनवाज को छोड़कर, समिति के सभी मुस्लिम सदस्यों ने बिल का विरोध किया और उनके पति पर यह भी आरोप लगाया गया कि उन्होंने अपनी पत्नी के ‘प्रभाव’ में बिल का समर्थन किया। हालाँकि, 1929 में बिल को बाल विवाह निरोधक अधिनियम के रूप में पारित किया गया, जिसने लड़की की शादी के लिए न्यूनतम आयु 14 और पुरुषों की 18 वर्ष निर्धारित की।

     वर्ष 1937 में जहांआरा को पंजाब विधान सभा के संसदीय सचिव के रूप में चुना गया। पद पर रहकर, उन्होंने महिलाओं के बीच स्वास्थ्य के मुद्दों और कम उम्र की प्रत्याशा पर ध्यान केंद्रित किया। 1938 में, उन्हें ‘ऑल-इंडिया मुस्लिम लीग की महिला केंद्रीय उप-समिति’ में चुना गया था। जबकि, 1946 में, वह फिर से पंजाब विधान सभा की सदस्य चुनी गईं, साथ ही उसी वर्ष वे अखिल भारतीय मुस्लिम लीग के दृष्टिकोण को समझाने के लिए अमेरिका गईं।

     1947 में, पंजाब में सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान, उन्होंने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और ब्रिटिश सरकार द्वारा अन्य मुस्लिम लीग नेताओं के साथ उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।राजनीति में अपनी सक्रिय भूमिका के अलावा उन्होंने शैक्षिक और सामाजिक मामलों पर कई पर्चे लिखे और उर्दू में ‘हुस्न आरा बेगम’ शीर्षक से एक किताब लिखी और अंग्रेजी में ‘फादर एंड डॉटर’ शीर्षक से उनके संस्मरण लिखे।

     1947 के विभाजन के बाद, कट्टर मुस्लिम लीग के समर्थक के परिवार से होने के कारण उन्हें पाकिस्तान जाना पड़ा, जहाँ 1948 में उन्होंने मृत माता-पिता की संपत्ति का अधिकार पाने के लिए सफलतापूर्वक एक आंदोलन का नेतृत्व किया। भारत के प्रति बेगम जहांआरा के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है, उन्होंने न केवल महिलाओं के मतदान के अधिकार को छीनने के लिए बल्कि कई अन्य सामाजिक बुराइयों के खिलाफ भी लड़ाई लड़ी।