महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्रानंद गिरि के एक पत्र से भाजपा में हड़कंप

0
61

देहरादून। मतदान संपन्न होने के बाद उत्तराखण्ड भाजपा में भीतरघात को लेकर लगातर प्रत्याशी आरोप लगा रहे है। जिसके राजनीतिक गलियारों में कई मायने निकाले जा रहे है। किन्तु चुनाव नतीजे अपने से पहले उत्तराखंड में भाजपा के भीतर कलह सामने आने के बाद जीवनदीप आश्रम के महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्रानंद गिरि के एक पत्र के कारण प्रांत की राजनीति में हड़कंप मचा हुआ है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को एक पत्र लिखकर गिरि ने कहा है कि इस बार चुनावों में कुप्रबंधन के कारण हो सकता है कि चुनाव के नतीजे पार्टी की उम्मीदों के खिलाफ जाएं। आगामी 10 मार्च को मतगणना के बाद चुनाव के नतीजे साफ होंगे, इससे पहले ही गिरि ने इस चिट्ठी की एक कॉपी केंद्रीय गृहमंत्री ​अमित शाह और राष्ट्रीय संगठन मंत्री को भी भेज दी है।
पिछले​ दिनों कुछ विधायकों के भितरघात संबंधी आरोपों के बाद महामंडलेश्वर के इस पत्र से भाजपा के भीतर एक बार फिर हड़कम्प मच गया है। 2009 में हरिद्वार सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ चुके गिरि ने कहा कि 2009 चुनाव में इसी तरह का कुप्रबंधन देखने को मिला था, जैसा इस बार विधानसभा चुनाव में देखने को मिला है। कार्यकर्ताओं की भावनाओं का हवाला देते हुए​ गिरि ने इस मामले में उचित कार्रवाई किए जाने की मांग भी केंद्रीय नेतृत्व से की है। हालांकि इस पत्र में किसी नाम का खुलासा नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा है कि यह पार्टी के प्रदेश नेतृत्व के खिलाफ ही है।गिरि ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि उत्तराखंड में कोई ज़िम्मेदार व्यक्ति चुनाव की रूपरेखा सही ढंग से बना ही नहीं पाया। चुनाव को लेकर कार्यकर्ताओं और प्रचार आदि का मैनेजमेंट ठीक तरह से होना चाहिए था, जो नहीं हुआ इसलिए कई सीटों पर परिणाम विपरीत रहने की आशंका है।