जोर-जुगाड़ वालों से सावधान रहे कांग्रेसी नेताः हरीश रावत

0
52

देहरादून। चुनाव परिणाम आने में भले ही अभी तीन दिन का समय शेष है लेकिन संभावित नतीजों को लेकर सूबे की राजनीति का पारा चढ़ता ही जा रहा है। किसी भी दल को बहुमत के लिए जरूरी 36 सीटें न मिल पाने के अंदेशे ने मतगणना से पूर्व ही जोड़कृतोड़ की खबरों को हवा मिलने से हड़कंप मचा हुआ है।
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के दून में आते ही चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। 2016 में कांग्रेस में हुई टूटकृफूट और सत्ता परिवर्तन की कोशिश में अहम भूमिका निभाने वाले विजयवर्गीय की दून में उपस्थिति और भाजपा नेता महेंद्र भटृ के उस बयान जिसमें उन्होंने कांग्रेस के कई जिताऊ प्रत्याशियों के भाजपा के संपर्क में होने की बात कही गई है, को अति गंभीरता से लेते हुए कांग्रेसी नेताओं ने और अधिक सतर्कता बरतने की बात कही है।
पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपनी पार्टी के नेताओं को सतर्क करते हुए कहा कि उन्हें जोड़ जुगाड़ करने वालों पर निगाह रखने की जरूरत है। उनका कहना है कि भाजपा के नेताओं का इतिहास रहा है कि वह अपना खेल बिगड़ते देख किसी भी हद तक जा सकते हैं। उन्होंने कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिदायत दी है कि वह सावधान रहें, साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं के अंदर बढ़ती बेचौनी और कवायद इस बात का साफ संकेत है कि भाजपा चुनाव हार रही है और प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है।
भले ही चुनाव परिणाम से पहले भाजपा कुछ भी दावा करती रही हो लेकिन जमीनी सच्चाई को भाजपा नेता समझ रहे हैं। उल्लेखनीय है कि चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा ने अब की बार 60 पार का नारा दिया, लेकिन मतदान के बाद भाजपा ने 60 पार से किनारा कर लिया और अब वह अपनी पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनने की बात कर रहे हैं। जो उनके टूटते मनोबल को ही दर्शाता है। उन्हें मतदान के बाद अपनी कमजोर स्थिति का आभास हो गया है यही कारण है कि अब जोड़कृतोड़ की संभावनाओं पर वह निर्भर होते दिख रहे हैं।