आईपीएल में सट्टेबाजी करने वाले गिरोह के चार सदस्यओं को लाखों के कैश के साथ किया गिरफ्तार

0
52

देहहरादून। ऑनलाइन आईपीएल सट्टेबाज गिरोह के खिलाफ उत्तराखंड एसटीएफ की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है। पहले हरियाणा के गुरुग्राम फिर ऋषिकेश और अब उसके बाद देहरादून के आईटी पार्क में से चल रहे आईपीएल सट्टेबाजी गिरोह का पर्दाफाश कर एसटीएफ ने 4 बुकी को लाखों की नकदी सहित गिरफ्तार किया है। एसटीएफ के गिरफ्त में आए सट्टेबाज गिरोह के 2 सदस्य मुजफ्फरनगर उत्तर प्रदेश के बताए जा रहे है। जबकि, दो अन्य देहरादून के रहने वाले हैं।
एसटीएफ ने शुक्रवार देर रात तक चले इस छापेमारी की कार्रवाई में बेंगलुरु और चेन्नई के बीच चल रहे आईपीएल मैच में ऑनलाइन बैटिंग का खेल देहरादून के आईटी पार्क राजेश्वर नगर फेस वन की एक बिल्डिंग से संचालित हो रहा था। कार्रवाई के दौरान पुलिस ने गिरफ्तार किए गए चार बुकी के कब्जे से 1 लाख 32 हजार की नकदी सहित 12 मोबाइल, वाईफाई, आईपैड, लैपटॉप जैसे इलेक्ट्रॉनिक एविडेंस बरामद किये। उत्तराखंड एसटीएफ ने नितिन कुमार और अंकित कुमार पाल को गिरफ्तार किया है।जो मुजफ्फरनगर यूपी के रहने वाले हैं. वहीं, उदित कुमार कैनाल रोड देहरादून और विनीत अरोड़ा मोहिनी रोड डालनवाला देहरादून के रहने वाले हैं।. वहीं, इस दौरान दो रजिस्टर भी बरामद हुए हैं, जिसमें प्रत्येक दिन आईपीएल मैचों में सट्टेबाजी में दांव लगाने वाली रकम का लेन-देन हिसाब रखा जाता था। देहरादून की आईटी पार्क में पर्दाफाश हुए आईपीएल सट्टेबाजी गिरोह की जांच पड़ताल में पता चला कि बुकी बकायदा आईपीएल बैटिंग के लिए मैजिक ऐप और ताज 777 ऐप पर मैच देखने वालों के लिए ऑनलाइन सट्टा बुक करते थे। उत्तराखंड एसटीएफ एसएसपी अजय सिंह के मुताबिक, आईटी पार्क में गिरफ्तार किए गए आईपीएल सट्टेबाजों के गिरोह से पूछताछ में पता चला कि इनके द्वारा पहले कॉल सेंटर का संचालन किया जाता था। बाद में कॉल सेंटर का काम बंद कर ऑनलाइन सट्टेबाजी के धंधे में आ गए। गिरोह द्वारा कुछ ही समय आईपीएल मैचों में लाखों-करोड़ों का मुनाफा देख इसका नेटवर्क उत्तराखंड सहित अन्य राज्यों में फैलाया जा चुका है। एसटीएफ गिरफ्तार चारों बुकी से उनके नेटवर्क के बारे में जानकारी जांच-पड़ताल कर आगे की कार्रवाई में जुटी है।