डीएवी कॉलेज में छात्र-छात्राओ को किया नशे के प्रति जागरूक।

0
7

अतुल्य भारत :

देहरादून। एसएसपी दलीप सिंह कुंवर ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए बताया कि किसी भी देश का भविष्य व उन्नति युवा पीढी पर निर्भर करती है, किसी भी देश में अगर युवाओं की संख्या ज्यादा है तो उस देश का विकास भी तेजी से होता है क्योकि युवा नई और सकारात्मक सोच के साथ देश की प्रगति में अपना योगदान कर सकते है।
मुख्यमंत्री के विजन 2025 ड्रग्स फ्री देवभूमि को साकार करने की अपनी मुहिम को आगे बढाते हुए मंगलवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने डीएवी (पीजी) कॉलेज में छात्र-छात्राओ को नशे के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से एंटी ड्रग्स अवेयरनेश प्रोग्राम का आयोजन किया। नशे के दुष्प्रभावों के बारे में अवगत कराते हुए महोदय द्वारा बताया गया कि अक्सर युवा शौक के तौर पर नशे की शुरूआत करते है तथा धीरे-धीरे उसके आदि हो जाते है तथा नशें की पूर्ति के लिए अपराध की ओर अपना कदम बढाते है। चोरी, लूट, नकबजनी आदि की अधिकतर घटनाओं में नशे के आदि व्यक्ति संलिप्त पाये गये है, साथ ही नशे के आदि नाबालिक युवकों द्वारा भी अपने नशे के शौक की पूर्ति के लिए चोरी, लूट व अन्य आपराधिक घटनाओं कों अंजाम दिया जा रहा है जो एक चिंतनीय विषय है। एसएसपी ने युवाओं को अपने जीवन में एक लक्ष्य निर्धारित करते हुए कडी मेहनत व लगन के साथ उसकी प्राप्ति तक निरंतर प्रयत्नशील रहने के लिए प्रेरित किया, साथ ही उनसे नशे से दूर रहकर एक सभ्य समाज की स्थापना करने में अपना योगदान देने की अपेक्षा की। पुलिस की ओर से युवाओं की काउंसलिग के लिए डाक्टर मनोचिकित्सक, रिटायर्ड पुलिस अधिकारियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं तथा बच्चों के अभिभावकों की सहायता ली जा रही है। अंत में छात्र छात्राओं व कालेज प्रबंधन से जनपद पुलिस द्वारा नशें के विरूद्ध चलायी जा रही मुहिम में अपना सहयोग प्रदान करने तथा अपने आस पास नशा करने अथवा बेचने वाले व्यक्तियों के संबंध में कोई भी जानकारी प्राप्त होने पर उसकी सूचना पुलिस को देने के लिए अवगत कराया। कार्यक्रम के दौरान क्षेत्राधिकारी डालनवाला ने छात्राओं को उत्तराखंड पुलिस के महिलाओं की सुरक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराते हुए उन्हें उत्तराखंड पुलिस एप के गौरा शक्ति फीचर के बारे में जानकारी प्रदान की। कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक नगर, सीओ डालनवाला, कालेज प्रबंधन व छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।