आरएसएसः धर्मांतरण के कारण कई जगहों पर हिंदुओं की आबादी घट रही है

0
42

दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले ने प्रयागराज में कहा कि हिंदुओं का लगातार धर्म परिवर्तन हो रहा है। धर्मांतरण और प्रवासन के कारण जनसंख्या में असंतुलन पैदा हो रहा है। उन्होंने धर्मांतरण रोधी क़ानून को सख़्ती से लागू करने की अपील भी की। साथ ही आरक्षण को लेकर भी अपनी राय रखी।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की चार दिवसीय बैठक थी। इस बैठक के बाद होसबाले ने प्रयागराज में मीडिया से ये बातें कहीं।
अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में देश में लगातार हो रहे धर्मांतरण को लेकर चिंता जाहिर की। उन्होंने जनसंख्या नीति बनाने और इसे सभी पर समान रूप से लागू करने की अपील की।
संघ सरकार्यवाह ने दावा किया कि धर्मांतरण के कारण देश में कई जगहों पर हिंदुओं की आबादी घट रही है और इसके परिणाम भी देखे गए हैं। उन्होंने कहा कि सीमा पर होने वाला प्रवासन भी जनसंख्या असंतुलन का एक कारण है जिससे सामाजिक और आर्थिक तनाव पैदा हुआ है। आरएसएस नेता ने जनसंख्या असंतुलन के लिए परिवारों में सदस्यों की संख्या में कमी को भी वजह बताया। उन्होंने कहा कि पिछले 40 से 50 सालों में जनसंख्या नियंत्रण पर जोर देने के कारण परिवारों का औसत आकार 3.4 सदस्यों से 1.9 सदस्य हो गया है। इसके कारण आने वाले सालों में देश में युवाओं से ज़्यादा बुज़ुर्गों की संख्या बढ़ने की आशंका है। इसलिए जनसंख्या में संतुलन बनाए रखना युवा देश होने के लिए ज़रूरी है। उन्होंने बताया कि आरएसएस ने अपने कार्यकर्ताओं को आर्य समाज और धर्म जागरण विभाग जैसी संस्थाओं में जाने के लिए कहा है जो धर्मांतरण रोकने पर काम करती हैं। इसके कारण श्श्घर वापसीश्श् में अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं। होसबाले ने कहा कि आरएसएस का मानना है कि धर्म परिवर्तन कर चुके लोगों को आरक्षण का फायदा नहीं मिलना चाहिए। महिला सशक्तिकरण के मसले और सामाजिक गतिविधियों पर उनकी भागीदारी पर होसबाले ने कहा कि महिलाओं में शिक्षा, खासकर हिंदुओं में, बढ़ी है और वो समाज के सभी क्षेत्रों में काम कर रही हैं।